Tuesday, 2 August 2016

फ़िर वही दास्तान - Phir Wahi Dastaan

यह मैं हूँ
बेसुध
फ़िक्रमंद
तेरी चाहत में खुदी को कुर्बान किया है हमने 

वह तुम हो
बेरुख
बेफ़िक्र
मेरी रूह को पैरों तले रौंद दिया है तुमने 

वह तुम हो
उड़ती हुई
झूमती हुई
आसमाँ में हवाओं से बातें करती हुई 

यह मैं हूँ
गिरता हुआ  
तड़पता हुआ
ज़मीन से लिपटकर धूल चाटता हुआ

यह मैं हूँ
तेरी हर हँसी पे मुस्कुराता हुआ
तेरे हर आँसू को अपना बनाता हुआ 

वह तुम हो
मेरी हर गुहार को अनसुनी करती हुई 
मेरे ज़ख्मों को अनदेखा करती हुई

अब और नहीं।
बस और नहीं।

4 comments:

  1. to moving on and breaking free..of loving and loving more..
    Touching...!! :)

    ReplyDelete
  2. Wow, I loved this one. The pathos came out beautifully - and the final scream for freedom, great!! One must always get up every time one falls. Dhool bhi dharti maa ka ek roop hai, hawa jaisa hi tattva hai. As air, so earth. :)

    ReplyDelete

TYPE YOUR COMMENT IN THE BOX BELOW AND CLICK THE "POST COMMENT" BUTTON

Popular Posts