Sunday, 17 February 2008

लौट आओ LAUT AAO


बरसों बीत चुके, जबसे हमें छोड़ गई तुम,
हम हँसना भूल गए हैं, यूँ तनहा छोड़ गई तुम,
सदाएँ तेरी सुनके, दीदार तेरा पाके,
कुछ अरसे बीत चुके हैं, याद आती अब भी हो तुम।

भुला न पाऊं तुमको, मेरी यादों में न आओ,
आना ही गर है तुमको, तों ज़िंदगी में आओ।

जब जाना ही था तुमको, तों दिल को क्यों चुराया,
दिल का शहर बसाकर, उसी को क्यों उजाडा,
लौट आओ मेरे हमदम, उजाडा फिर बसाओ,
राह देखती हैं आँखें, न और तुम सताओ।

जब से गई हो जानम, मुड़कर न देखा तुमने,
हम जलते हैं या बुझ गए, रूककर न पूछा तुमने,
मेरा गुनाह क्या है? बस चाहता हूँ तुमको,
तुम भी गुनाह करती, क्यों यूँ सज़ा दी तुमने?

दिल-ए-बरबाद को अब तक है इंतज़ार तेरा,
लौट आओगी तुम इक दिन, है एतबार मेरा,
हम रोज़ अश्क पीते, गम में डूबा करते हैं,
रोज़ बनता हैं लहू से, मुझसे तस्वीर तेरा।

दिल में पनाह दो तुम, या फिर फना ही कर दो,
या तोह तुम याद न आओ, या फिर बाहों मे आओ।

आ जाओ, लौट आओ।
आ जाओ, लौट आओ।



For those of you, who's browsers dont support hindi script, or the hindi seems to be jumbled up, heres the same poem in English Script


Barson beet chuke, jabse humein chhod gayi tum,
Hum hasna bhool gaye,
yun tanha chhod gayi tum,
Sadayein teri sunke, deedar tera paake,
kuch arsey beet chuke hain, yaad aati ab bhi ho tum.


Bhula na paaun tumko, meri yaadon mein na aao,
Aana hi gar hai tumko, toh zindagi mein aao.


Jab jaana hi tha tumko, toh dil ko kyun churaya?
Dil ka shahar basaakar, usi ko kyun ujaada?
Laut aao mere humdum, ujaada phir basao,
Raah dekhti hain aankhein, na aur tum sataao.


Jab se gayi ho jaanam, mudkar na dekha tumne,
Hum jalte hain ya bujh gaye, ruk-kar na poocha tumne,
Mera gunaah kya hai? Bas chaahta hoon tumko,
Tum bhi gunaah karti, kyun yun sazaa dee tumne?


Dil-e-barbaad ko ab tak hai intezaar tera,
Laut aaogi tum ik din, hai aetbaar mera,
Hum roz ashq peete, gham mein dooba karte hain,
Roz banta hai lahoo se, mujhse tasveer tera.


Dil mein panaah do tum, ya phir fanaa hi kar do,
Ya toh tum yaad na aao, ya phir baahon mein aao.


Aa jao, Laut ao....
Aa jao, Laut ao....

Popular Posts